क्या मेंग वांगझू की गिरफ्तारी लाएगी चीन और अमेरिका के बीच फिर से दरार?

569 0

वैंकूवर।अमेरिका की अपील पर चीन की स्मार्टफोन कंपनी हुवावे की सीएफओ मेंग वांगझू (46) को कनाडा में गिरफ्तार किया गया।जिसके बाद कनाडा की अदालत ने मंगलवार को उन्हें जमानत दे दी। साथ ही उनसे 54 करोड़ रुपए (75 लाख डॉलर) का जमानती बॉन्ड भरवाया गया। ईरान के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों के उल्लंघन के आरोप में 1 दिसंबर को मेंग की गिरफ्तारी हुई थी। 10 दिन बाद उन्हें इस शर्त पर जमानत मिली कि उन्हें अपना पासपोर्ट जमा करवाना होगा और जीपीएस ट्रैकिंग डिवाइस पहननी होगी।

गौरतलब है की अमेरिका की अपील पर ही कनाडा में मेंग को गिरफ्तार किया गया था। अमेरिका उनका प्रत्यर्पण चाहता है। उसने मेंग की जमानत का विरोध भी किया था। यूएस की दलील थी कि मेंग फरार भी हो सकती हैं।

साथ ही हुवावे की सीएफओ की गिरफ्तारी एक दिसंबर को हुई थी। उसी दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से जी-20 समिट में मुलाकात कर रहे थे। दोनों के बीच ट्रेड वॉर 90 दिन टालने पर सहमति बनी थी। लेकिन,बता दें कि मेंग की गिरफ्तारी के बाद फिर से रिश्ते खराब होने के आसार बढ़ गए है। इतना ही नहीं ट्रम्प ने मंगलवार को कहा था कि अगर ऐसा लगेगा कि चीन से अहम व्यापार सौदा करने के लिए हुवावे के मामले में दखल जरूरी है तो वो ऐसा करेंगे। अमेरिका-चीन के बीच पिछले कई महीनों से व्यापार विवाद चल रहा है। ट्रम्प ने उम्मीद जताई है कि वो इस मसले को सुलझाने के लिए चीन के साथ डील कर सकते हैं।

इतना ही नहीं अमेरिका का आरोप है कि हुवावे ने हॉन्गकॉन्ग की टेक कंपनी स्काइकॉम को थर्ड पार्टी बनाकर ईरान की कंपनियों के साथ कारोबार किया। ऐसा कर हुवावे ने यूरोपियन यूनियन और अमेरिकी प्रतिबंधों का उल्लंघन किया।इसपर हुवावे का कहना है कि उसे कनाडा और अमेरिका की कानूनी प्रक्रिया पर भरोसा है। जिन देशों में भी कंपनी का कारोबार है वहां एक्सपोर्ट कंट्रोल और यूएन, यूएस, और ईयू के प्रतिबंध कानूनों का पालन किया जाता है।

बता से कि चीन ने मेंग की गिरफ्तारी पर नाराजगी जताते हुए तुरंत रिहा करने की मांग की थी। उन पर कार्रवाई से चीन में अमेरिका और कनाडा के खिलाफ गुस्सा बढ़ गया। कनाडा ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन के मुताबिक चीन में कनाडा के पूर्व राजनयिक माइकल कोवरिग को मंगलवार को हिरासत में ले लिया गया। इसकी कोई वजह नहीं बताई गई।कोवरिग के खिलाफ कार्रवाई पर संज्ञान लेते हुए कनाडा ने कहा कि चीन से बात की जाएगी। कनाडा के निजता कानून का ध्यान रखते हुए इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता।

Related Post

करतारपुर कॉरिडोर: भारतीयों के पासपोर्ट को लेकर विदेश मंत्रालय ने पाक को सुनाई खरी-खरी

Posted by - November 7, 2019 0
नई दिल्ली। करतारपुर कॉरिडोर जाने के लिए भारतीयों के पासपोर्ट को लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है। इसी बीच…
शेफाली वर्मा

भारत की महिला क्रिकेटर शेफाली वर्मा बनीं वैश्विक पेय ब्रांड पेप्सी यूनिवर्स की स्वैगस्टार

Posted by - March 6, 2020 0
नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर वैश्विक पेय ब्रांड पेप्सी ने भारत की उभरती हुई महिला क्रिकेट खिलाड़ी…
साइना नेहवाल

कोरोनावायरस से परेशान सायना नेहवाल, ट्वीट कर BWF से की ये अपील

Posted by - March 1, 2020 0
नई दिल्ली। नोवेल कोरोना वायरस के कारण टोक्यो ओलिंपिक के क्वालिफाइंग टूर्नामेंट रद्द हो गया है। इसके बाद भारतीय बैडमिंटन…