Union BUDGET 2019: मोदी सरकार ने बदल दी बजट की ये 5 परंपराएं

529 0

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना पहला आम बजट पेश कर रही हैं। उन्होंने बताया कि खाद्य सुरक्षा पर खर्च का स्तर 2014-19 के दौरान पिछले पांच साल के दौरान लगभग दोगुना हुआ। इस बार ‘बजट’ शब्द में बदलाव करके इसे ‘बही खाता’ की संज्ञा दी गई है। वहीं, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के हाथ में ‘बजट ब्रीफकेस’ की जगह आज लाल रंग की एक पोटली दिखी।

ये भी पढ़ें :-Union BUDGET 2019: बजट भाषण के बीच शेयर बाजार ने किया निराश 

आपको बता दें इतना ही नहीं इस बार ‘बजट’ को ‘बही खाता’ कहा जा रहा है. मुख्य आर्थिक सलाहकार डॉ कृष्णमूर्ति वी. सुब्रमण्यन ने कहा है, ‘’यही भारतीय परंपरा है. यह पश्चिमी विचारों की गुलामी से निकलने का प्रतीक है। यह एक बजट नहीं है, लेकिन एक ‘बही खाता’ है।’’

ये भी पढ़ें :-Union BUDGET 2019: सीतारमण ने संसद में पेश किया बजट, सुरक्षा और आर्थिक वृद्धि पर लगाई मुहर 

जानकारी के मुताबिक साल 2000 तक केंद्रीय बजट शाम 5 बजे पेश किया जाता था। ये परंपरा अंग्रेजों के समय से चली आ रही थी, लेकिन साल 2001 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने सुबह 11 बजे बजट पेश कर नई परंपरा शुरू की।

Related Post

Prof. Vinay Kumar Pathak

एकेटीयू केजीएमयू के साथ मिलकर तैयार कर रहा है कोरोना से बचाव का मैटेरियल

Posted by - March 14, 2020 0
लखनऊ। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय से सम्बद्ध संस्थानों के विद्यार्थियों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरल…
गोटाबाया राजपक्षे विजयी

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव गोटाबाया राजपक्षे विजयी, पीएम मोदी ने दी बधाई

Posted by - November 17, 2019 0
नई दिल्ली। श्रीलंका के राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार गोटबाया राजपक्षे ने बड़ी जीत हासिल की है। उन्होंने श्रीलंका की…