Rajni

शिक्षिका रजनी का हुआ अंतिम संस्कार, आतंकियों की बनी थी शिकार

134 0

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर (Jammu and Kashmir) के कुलगाम (Kulgam) जिले में मारी गई हिंदू शिक्षिका रजनी बाला (Hindu teacher Rajni Bala) (36) का आज सुबह 11 बजे अंतिम संस्कार किया गया। रजनी जम्मू के साम्बा जिले की रहने वाली थीं और कुलगाम के गोपालपोरा में एक सरकारी स्कूल में उनकी नियुक्ति हुई थी। कश्मीर में मई महीने में यह 7वीं हत्या है। आतंकियों ने इसी महीने में दूसरी बार किसी गैर मुस्लिम सरकारी कर्मचारी को अपना निशाना बनाया है।

रजनी की मौत के बाद उनके पति ने मुख्य शिक्षा अधिकारी पर अपनी पत्नी के कुलगाम जिले से स्थानान्तरण करने में देर लगाने का आरोप लगाया है। उनका कहना था कि पहली मौत के बाद ही रजनी ने 4 बार सीईओ के पास स्थानान्तरण की अपील की थी, लेकिन सीईओ ने उनकी प्रार्थना को कोई तरजीह नहीं दी।

रजनी की मौत के बाद कश्मीरी पंडितों में आक्रोश और बढ़ गया है। उनका कहना है कि अगर उन्हें अगले 24 घंटे में किसी सुरक्षित जगह पर नहीं पहुंचाया गया तो घाटी से बड़े पैमाने पर पलायन होगा। सैंकड़ों कश्मीरी पंडितों ने खुद के पुनर्वास की मांग को लेकर कुलगाम और श्रीनगर हाइवे को जाम कर दिया था। इस दौरान उन्होंने उपराज्यपाल के विरोध में नारे लगाते हुए न्याय की मांग की। दरअसल केंद्र सरकार ने 6 अप्रैल को संसद में जानकारी दी थी कि 2021 में कश्मीर में अल्पसंख्यक समुदाय से संबंधित लोगों की हत्या चरम पर थी। 2019 से 14 हिंदुओं को आतंकवादियों ने मौत के घाट उतार दिया था, इसमें 4 कश्मीरी पंडित थे, सभी हत्याएं अनंतनाग, श्रीनगर, पुलवामा और कुलगाम जिले में दर्ज की गईं।

2017 में 11 लोगों की हुई हत्या

गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने बताया कि आतंकवादियों ने जम्मू कश्मीर में पिछले पांच सालों में अल्पसंख्यक समुदाय के करीब 34 लोगों की हत्या की है, जिसमें 2021 में मारे गए 11 लोग भी शामिल हैं।

एसआरएस बुलेटिन के अनुसार उप्र में IMR में आई 3 अंक की कमी

कश्मीरी हिंदुओं पर हमले की लिस्ट

17 मई 2022: आतंकियों ने बारामुला जिले के दीवान बाग इलाके में नई खुली शराब की दुकान पर ग्रेनेड फेंक दिया था। इस हमले में 52 साल के रंजीत सिंह की मौत हो गई और तीन लोग बुरी तरह से घायल हुए।

12 मई 2022ः सरकारी कर्मचारी राहुल भट को आतंकवादियों ने मध्य कश्मीर के बड़गाम जिले के चडूरा शहर के तहसील कार्यालय के अंदर गोली मार दी। उन्हें 2010-11 में प्रवासियों के लिए दिए गए विशेष पैकेज के तहत यहां क्लर्क की नौकरी मिली थी।

सरकार ने पशुपालन, दुग्ध उत्पादन एवं डेयरी के क्षेत्र में अथक कार्य किए : सीएम योगी

13 अप्रैल 2022ः जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में आतंकवादियों ने खुलेआम गोलीबारी करते हुए सतीश कुमार सिंह राजपूत को मौत के घाट उतार दिया। उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी मौत हो गई. काकरां के रहने वाले सतीश पेशे से ड्राइवर थे।

Related Post

मुख्यमंत्री का OSD बनकर धन उगाही करने के मामले में चार गिरफ्तार

Posted by - May 22, 2021 0
एसटीएफ ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का फर्जी विशेष कार्याधिकारी (OSD) तथा शासन के विभिन्न विभागों के अधिकारी बनकर…