राजस्थान विधानसभा चुनाव: कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी, महिलाओं युवाओं और किसानों के लिए कई वादे शामिल

600 0

जयपुर। चुनावों के दौर में कांग्रेस ने भी गुरुवार को राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। इसमें 400 से ज्यादा घोषणाएं शामिल की गई हैं।पार्टी ने इसे जन घोषणा-पत्र नाम दिया है। सचिन पायलट ने कहा कि घोषणा पत्र सिर्फ डॉक्यूमेंट नहीं, बल्कि हमारा कमिटमेंट है। हमारी सरकार मेनिफेस्टो को तय वक्त में लागू करेगी। उन्होंने बताया कि कॉलेज, विश्वविद्यालयों में डिग्री कोर्स उद्योगों में नौकरी मिलने के हिसाब से बनाए जाएंगे। परीक्षा के दौरान अभ्यर्थियों की यात्रा का खर्च सरकार देगी। किसानों को कम दरों पर कृषि लोन दिया जाएगा। बच्चों के लिए शिशु पालना घर बनाए जाएंगे। सरकार से मांगे जाने वाले डॉक्यूमेंट्स 30 दिन में आवेदनकर्ता को मुहैया कराए जाएंगे।

साथ ही कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने ये भी कहा कि हमारी सरकार 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ करेगी। बुजुर्ग किसानों को पेंशन दी जाएगी। इसके अलावा, महिलाओं को मुफ्त में आजीवन शिक्षा दी जाएगी।

साथ ही वादों की अगर बात की जाये तो भाजपा और कांग्रेस के तीन वादे एक जैसे हैं। भाजपा ने 27 नवंबर को अपना घोषणा पत्र जारी किया था। वही कांग्रेस ने आज यानि 29 नवंबर को घोषणा पत्र जारी किया है।मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा था कि पिछले घोषणा पत्र के 95% वादे पूरे किए थे। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने युवाओं को रोजगार भत्ता देने का जो वादा कुछ माह पहले किया था, उसी की भाजपा ने नकल की है।

जहाँ कांग्रेस ने शिक्षित बेरोजगार युवाओं को 3500 रुपए प्रतिमाह तक बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया है वही भाजपा ने 21 साल से ज्यादा उम्र के शिक्षित बेरोजगारों को 5 हजार रुपए प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता दिए जाने का वादा किया है। कांग्रेस ने जहाँ दस दिन में किसानों का कर्ज माफ किये जाने को अपने घोषणा पत्र में शामिल किया है वहीँ बीजेपी ने किसान कर्ज माफी की कोई बात नहीं कही है लेकिन कृषि केन्द्रित 250 करोड़ रुपए का ग्रामीण स्टार्ट-अप फंड स्थापित करने का जिक्र किया है।

इसके साथ ही कांग्रेस ने किसानों के समस्त कृषि यंत्रों और ट्रैक्टर को जीएसटी से मुक्त रखा है।वहीँ भाजपा ने लघु और सीमान्त किसानों को कृषि के लिए मशीनरी और उपकरण उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कस्टम हायरिंग योजना का विस्तार करने का वादा किया है।

महिलाओं के लिए भी दोनों पार्टियां कुछ वादों के साथ उतरी है। जहाँ कांग्रेस ने अपने मैनिफेस्टो में प्रत्येक जिला मुख्यालय पर कामकाजी महिलाओं के लिए हॉस्टल और उनके बच्चों के लिए निशुल्क पालना घर की व्यवस्था की घोषणा की है वहीँ भाजपा ने बड़े शहरों और बस्तियों में वर्किंग वूमेन होस्टल चेन बनाये जाने की घोषणा की है। इसमें प्रोफेशनल्स की मदद ली जाएगी।

कांग्रेस ने प्रत्येक जिले में महिलाओं के लिए आईटीआई और पॉलिटेक्निक कॉलेज की स्थापना करने की घोषणा की है वहीँ भाजपा ने कौशल शिक्षा, शोध और व्यक्तित्व निखार के लिए डिविजनल रिसोर्स सेंटर्स की स्थापना की जाने का वादा किया है। गौरतलब है कि राज्य की 200 सीटों के लिए 7 दिसंबर को मतदान है। परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे।

Related Post

साइना नेहवाल

कोरोनावायरस से परेशान सायना नेहवाल, ट्वीट कर BWF से की ये अपील

Posted by - March 1, 2020 0
नई दिल्ली। नोवेल कोरोना वायरस के कारण टोक्यो ओलिंपिक के क्वालिफाइंग टूर्नामेंट रद्द हो गया है। इसके बाद भारतीय बैडमिंटन…
Nitin Gadkari

CAA गांधी के सपनों को करेगा पूरा कांग्रेस बिगाड़ रही है देश का माहौल : नितिन गडकरी

Posted by - December 22, 2019 0
नागपुर। केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के विरोध में हो रहे हिंसक आंदोलन की…