भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम की वीरांगना के बारे में जानें कुछ रोचक बातें

132 0

डेस्क। रानी लक्ष्मीबाई मराठा शासित झाँसी राज्य की रानी थीं और 1857 के प्रथम भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम में अंग्रेजी हुकुमत के विरुद्ध बिगुल बजाने वाले वीरों में से एक थीं। लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी जिले में 19 नवम्बर 1828 को एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उसके बचपन का नाम मणिकर्णिका था पर परिवारवाले उन्हें स्नेह से मनु पुकारते थे।

ये भी पढ़ें :-आखिरी चरण में राहुल को आई महिलाओं की याद, किया सलाम

आपको बता दें अंग्रेजी हुकुमत से संघर्ष के लिए रानी लक्ष्मीबाई ने एक स्वयंसेवक सेना का गठन प्रारम्भ किया। इस सेना में महिलाओं की भी भर्ती की गयी और उन्हें युद्ध का प्रशिक्षण दिया गया। झाँसी की आम जनता ने भी इस संग्राम में रानी का साथ दिया। लक्ष्मीबाई की हमशक्ल झलकारी बाई को सेना में प्रमुख स्थान दिया गया। अंग्रेजों के खिलाफ रानी लक्ष्मीबाई की जंग में कई और अपदस्त और अंग्रेजी हड़प नीति के शिकार राजाओं जैसे बेगम हजरत महल, अंतिम मुगल सम्राट की बेगम जीनत महल, स्वयं मुगल सम्राट बहादुर शाह, नाना साहब के वकील अजीमुल्ला शाहगढ़ के राजा, वानपुर के राजा मर्दनसिंह और तात्या टोपे आदि सभी महारानी के इस कार्य में सहयोग देने का प्रयत्न करने लगे।

ये भी पढ़ें :-देश को आजादी दिलाने में शामिल सरोजिनी का नाम, जानें उनसे जुडी कुछ खास बातें 

जानकारी के मुताबिक झांसी की रक्षा करने के लिए, रानी लक्ष्मीबाई ने विद्रोहियों की सेना इकट्ठी की, जिसमें महिलाएं भी शामिल थीं इस महान कार्य में गुलाम गौस खान, दोस्त खान, खुदा बक्श, सुंदर-मुंदर, काशी बाई, लालाभाऊ बक्शी, मोती बाई, दीवान रघुनाथ सिंह और दीवान जवाहर सिंह जैसे बहादुर योद्धाओं ने रानी लक्ष्मीबाई का सहयोग किया। उन्होंने ने 14,000 सिपाहियों को इकट्ठा किया और झांसी की रक्षा के लिए एक सेना आयोजित कर ली।

Loading...

Related Post

करोड़ों के दिल की धड़कन बनी दीपिका आज हुई इतने साल की

Posted by - January 5, 2019 0
नई दिल्ली। बैडमिंटन खिलाड़ी प्रकाश पादकुोण की बिटिया दीपिका पादुकोण का आज अपना 33वां जन्मदिन मना रही हैं। दीपिका पादुकोण…
भाजपा में शामिल हुईं जयाप्रदा

बीजेपी से जया प्रदा को मिल सकता है टिकट, रामपुर में आजम खां को देंगी चुनौती

Posted by - March 25, 2019 0
लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर नेताओं द्वारा दल-बदलने का सिलसिला जारी है। कयास यह भी लगाए जा रहे हैं…
लोकसभा चुनाव

धौरहरा या लखनऊ, जितिन प्रसाद कहां से लड़ेंगे, सस्पेंस बरकरार

Posted by - March 28, 2019 0
लखनऊ। कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने धौरहरा में कांग्रेस कार्यकर्ता से मुलाकात की। मुलाकात के बाद वापस लखनऊ जा रहे…