गीता मेहता ने सरकार को शुक्रिया कहते हुए ‘पद्मश्री’ लेने से किया इनकार

738 0

नई दिल्ली। लेखिका गीता मेहता ने पद्मश्री सम्मान के लिए सरकार को धन्यवाद कहा है। इसके साथ ही उन्होंने यह सम्मान लेने से इनकार भी किया। गीता का कहना है कि आम चुनाव नजदीक हैं और ऐसे में अवॉर्ड को गलत समझा जा सकता है। जिससे कि सरकार और मुझे शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है और मुझे इसका पछतावा होगा।’

ये भी पढ़ें :-70वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर चप्पे-चप्पे पर तैनात हैं सुरक्षाकर्मी

आपको बता दें गीता ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की बड़ी बहन हैं। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारत सरकार ने 112 पद्म पुरस्कारों का एलान किया। मेहता ने 1979 में कर्म कोला, 1989 में राज, 1993 में ए रिवर सूत्र, 1997 में स्नेक्स एंड लैडर्स: ग्लिम्पसिस ऑफ मॉडर्न इंडिया और 2006 में इटरनल गणेश: फ्रॉम बर्थ टू रीबर्थ जैसी किताबों को लिखा है।उनकी ऐसी बात पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लेखिका और उनके पति से 90 मिनट बातचीत की थी।

ये भी पढ़े :-गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली में आतंकियों की बड़ी साजिश नाकाम

जानकारी के मुताबिक ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक की बेटी गीता मेहता इन दिनों न्यू यॉर्क में हैं। गृह मंत्रालय ने उन्हें ‘फॉरेनर’ कैटिगरी में अवॉर्ड दिया है, जबकि सूत्रों के मुताबिक वह भारतीय नागरिक हैं और भारतीय पासपोर्ट रखती हैं। 76 साल की मेहता ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक और उनकी पत्नी ज्ञान पटनायक के तीन बच्चों (प्रेम, गीता और नवीन) में एक हैं। नवीन पटनायक ने अपने राज्य के उन सभी लोगों को बधाई दी है, जिन्हें पद्म सम्मान के लिए चुना गया है।

 

Related Post

महबूबा मुफ्ती

पीएम के बयान पर महबूबा का पलटवार, बोली पाकिस्तान ने भी ईद के लिए नहीं बचाए परमाणु बम

Posted by - April 22, 2019 0
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध करते हुए PDP अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ऐसा बयान दिया है जिसकी वजह से…