गीता गोपीनाथ

IMF की रिपोर्ट के बाद चर्चा में गीता गोपीनाथ, जानें हैं कौन?

360 0

नई दिल्ली। अतंरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ एक फिर सुर्खियों में छाई हैं। IMF ने भारतीय अर्थव्यवस्था में विकास दर के अनुमान को काफी घटा दिया है। IMF ने दावोस में चल रहे विश्व आर्थिक मंच की बैठक के दौरान यह अनुमान जारी किया है।

2020 में वैश्विक वृद्धि में तेजी अभी काफी अनिश्चित बनी हुई है

गीता गोपीनाथ ने कहा है कि भारत सहित कई देशों में छाई सुस्ती का असर दुनिया भर में देखने को मिल रहा है। उनका कहना है कि 2020 में वैश्विक वृद्धि में तेजी अभी काफी अनिश्चित बनी हुई है। गोपीनाथ के बयान को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्रियों कपिल सिब्बल और पी चिदंबरम ने सरकार पर निशाना साधा है। वह इससे पहले नोटबंदी का विरोध करके चर्चा में आई थीं।

जानें कौन हैं गीता गोपीनाथ?

अक्टूबर 2018 में गीता को IMF की मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में नियुक्त किया गया था। हालांकि उन्होंने एक जनवरी, 2019 को अपना कार्यभार संभाला। वह इस पद पर नियुक्त होने वाली पहली महिला हैं। उन्होंने IMF में मौरिस आब्स्टफेल्ड की जगह ली है जो 31 दिसंबर को सेवानिवृत्त हुए थे।

गोपीनाथ को IMF की मुख्य अर्थशास्त्री और इसके अनुसंधान विभाग का निदेशक बनाया गया है। वह हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में इंटरनेशनल स्टडीज एंड इकोनॉमिक्स की प्रोफेसर हैं। वह राष्ट्रीय आर्थिक अनुसंधान ब्यूरो में अंतरराष्ट्रीय वित्त और मैक्रोइकोनॉमिक्स कार्यक्रम की सह-निदेशक भी हैं। वह केरल सरकार की आर्थिल सलाहकार के तौर पर काम कर चुकी हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय की रही हैं छात्रा

गीता का जन्म आठ दिसंबर 1971 को कोलकाता में हुआ था। उन्होंने मैसूर से अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त की है। वह टीवी गोपीनाथ और वीसी विजयलक्ष्मी की छोटी बेटी हैं। उनके माता-पिता मूलत: केरल के कन्नूर में रहते थे। उन्होंने 1992 में दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर वूमेन से अर्थशास्त्र में स्नातक और 1994 में दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से परास्नातक की डिग्री ली। उनके पास यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन की परास्नातक डिग्री भी है।

फिल्म इंडस्ट्री से दूर रहकर देश की सेवा कर रही दिशा की बहन खुशबू पाटनी 

वित्त मंत्रालय के जी-20 सलाहकार समिति में रही हैं सदस्य

वह हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में अंतरराष्ट्रीय अध्ययन और अर्थशास्त्र की प्रोफेसर रही हैं। इससे पहले उन्होंने असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में पढ़ाया है। वह भारत के वित्त मंत्रालय के जी-20 सलाहकार समिति में प्रतिष्ठित सदस्य के रूप में भी शामिल रही हैं। उन्होने 2001 में प्रिंसटन यूनिवर्सिटी से अंतर्राष्ट्रीय व्यापक अर्थशास्त्र और व्यापार में पीएचडी की डिग्री प्राप्त की है।

1995 बैच के  आईएएस टॉपर इकबाल सिंह से की है शादी

गोपीनाथ के पति इकबाल सिंह धालीवाल हैं जो अर्थशास्त्र में स्नातक हैं। 1995 बैच के आईएएस टॉपर रहे हैं। इसके बाद में वह नौकरी छोड़कर पढ़ाई के लिए प्रिंसटन यूनिवर्सिटी चले गए थे। वर्तमान में गीता, उनके पति और बेटा कैम्ब्रिज (ब्रिटेन) में रहते हैं। गोपीनाथ को 2019 में शैक्षणिक वर्ग में राष्ट्रपति से प्रवासी भारतीय सम्मान मिला था।

नोटबंदी की कर चुकी हैं आलोचना

IMF की मुख्य अर्थशास्त्री चुने जाने के बाद गीता गोपीनाथ ने भारत में नोटबंदी की कड़ी शब्दों में आलोचना की थी। अब उनकी कही वे बातें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। एक साक्षात्कार के दौरान उन्होंने कहा था कि कोई भी बड़ा अर्थशास्त्री नोटबंदी को जायज नहीं ठहरा सकता है। उनका कहना था कि न तो सभी नकदी कालाधन होता है और न भ्रष्टाचार।

Loading...
loading...

Related Post

विजय माल्या

विजय माल्या की संपत्ति बेंच वसूली करेगा बैंक, पीएमएलए कोर्ट की मंजूरी

Posted by - January 1, 2020 0
नई दिल्ली। मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून (पीएमएलए) के विशेष अदालत ने भगोड़े विजय माल्या को बड़ा झटका दिया है। भारतीय…

भारत के साथ कभी युद्ध नहीं जीत सकता पाकिस्तान, लेकिन अंत तक लड़ेंगे लड़ाई – इमरान

Posted by - September 15, 2019 0
इस्लामाबाद। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पाक पीएम ने एक बार फिर से कुछ ऐसा ही बयान दिया…