सशस्त्र बल न्यायाधिकरण लखनऊ पीठ से विकलांग सैनिक को 19 साल बाद मिला न्याय

831 0

लखनऊ। सशस्त्र बल न्यायाधिकरण लखनऊ पीठ ने हाल ही में एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। पीठ के इस फैसले से व्हीलचेयर पर 100 फीसदी विकलांग सैनिक को 19 साल से अधिक समय के बाद न्याय मिला है।उत्तराखंड के जिला पिथौरागढ़ के गांव बसीखेत के पूर्व नायक हीरा सिंह व्हीलचेयर पर 100 फीसदी विकलांगता के साथ एक मार्च 1999 को सेना की सेवा से सेवानिवृत्त कर दिए गए, लेकिन उनको सेना से विकलांगता पेंशन प्राप्त करने के लिए दर—दर की ठोकरें खाने को मजबूर होना पड़ा।

ये भी पढ़ें :-राहुल जैसे राजनेता जो नैतिक जिम्मेदारी लेते हैं, वे आजकी राजनीति में दुर्लभ ही मिलते हैं -अधीर रंजन 

हर जगह से निराशा मिलने के बाद पूर्व नायक हीरा सिंह ने बीते अप्रैल माह में 2019 में सशस्त्र बल ट्रिब्यूनल लखनऊ पीठ में मामला दर्ज करने के लिए  वरिष्ठ अधिवक्ता कर्नल एचएम माहेश्वरी (सेवानिवृत्त) से संपर्क किया।अधिवक्ता कर्नल एचएम माहेश्वरी के उचित पैरवी के कारण सशस्त्र बल न्यायाधिकरण लखनऊ पीठ ने छह माह से कम समय की अवधि में एक ऐतिहासिक निर्णय एएफटी लखनऊ पीठ ने सुनाया है।

ये भी पढ़ें :-राहुल जैसे राजनेता जो नैतिक जिम्मेदारी लेते हैं, वे आजकी राजनीति में दुर्लभ ही मिलते हैं -अधीर रंजन 

अधिवक्ता कर्नल एचएम माहेश्वरी ने बताया कि अध्यक्ष सशस्त्र बल ट्रिब्यूनल ने 30 सितंबर 2019 को 100 फीसदी विकलांगता पेंशन और परिचर भत्ता बकाया भत्ते के साथ देने का फैसला सुनाया है। न्यायाधिकरण ने सैन्य अधिकारियों को तीन महीनों के अंदर विकलांग सैनिक को सभी लाभ उसके घर पर सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया है।

Related Post

वोडाफोन-आईडिया ने रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए उठाया बड़ा कदम

Posted by - October 10, 2019 0
टेक डेस्क। वोडाफोन-आईडिया ने रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए बड़ा कदम उठाया है। अब यूजर्स को आईयूसी चार्ज…
मिस दिवा 2020 

मिस दिवा 2020 बनने के लिए सुनहरा मौका, आज ही करें आवेदन

Posted by - December 13, 2019 0
नई दिल्ली। कई युवतियों की आकांक्षाओं को पंख लगाने वाली प्रतिष्ठित सौंदर्य प्रतियोगिता लिवा मिस दीवा 2020 प्रतियोगिता अपने आठवें…