एकेडमी में लड़की होने के कारण नही हुआ दाखिला, लड़का बन भारतीय महिला ने ली थी ट्रेनिंग

305 0

नई दिल्ली। भारतीय महिला क्रिकेट टीम को जीत दिलाने में युवा खिलाड़ी शैफाली वर्मा ने अहम भूमिका निभाई। शैफाली हरियाणा के रोहतक की रहने वाली हैं। रोहतक में जूलरी दुकान चलाने वाले शैफाली के पिता संजीव ने बताया कि कोई मेरी बेटी को लेना नहीं चाहता था, क्योंकि वह लड़कियों के लिए एक भी एकेडमी नहीं थी। मैंने उनसे बहुत आग्रह किया कि वे मेरी बेटी को अपने यहां ट्रेनिंग देने के लिए शामिल कर ले, लेकिन किसी ने भी मेरी बात नहीं सुनी। उन्होंने कहा कि आखिरकार मजबूर होकर मैंने अपनी बेटी के बाल कटवा कर उसे एक एकेडमी ले गया और लड़के की तरह उसका ऐडमिशन कराया।

ये भी पढ़ें :-IPL 2019: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर बनाम राजस्थान रॉयल्स की जंग आज 

आपको बता दें शैफाली में क्रिकेट का पैशन उस वक्त शुरू हुआ जब सचिन तेंडुलकर 2013 में हरियाणा में अपना आखिरी रणजी मैच खेलने आए थे। 9 साल की शैफाली चौधरी बंसी लाल क्रिकेट स्टेडियम में अपने पिता के साथ बैठी सचिन, सचिन के नारे लगा रही थी।

ये भी पढ़ें :-बर्थडे स्पेशल: ‘हिटमैन’ के लिए बेहद खास दिन, मना रहे 32 वां जन्मदिन 

जानकारी के मुताबिक लड़कों के साथ खेलते हुए शैफाली का का क्रिकेट को लेकर जुनून  बढ़ता गया। जिसके बाद शैफाली के स्कूल ने लड़कियों के लिए क्रिकेट टीम बनाने का फैसला किया। उनके पिता संजीव बताते हैं कि, लड़कों के खिलाफ खेलना आसान नहीं था, क्योंकि अक्सर उसकी हेलमेट में चोट लगती थी। कुछ मौकों पर गेंद उसके हेलमेट ग्रिल पर भी लगती थी। मैं डर जाता था, लेकिन उसने हार नहीं मानी।

Loading...
loading...

Related Post

डिस्पोजल मशीन के विकास पर करेेंगे कार्य

एकेटीयू और आरएमएलआईएमएस मिलकर डिस्पोजल मशीन के विकास पर करेेंगे कार्य

Posted by - April 7, 2020 0
लखनऊ। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि और राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान ने स्टरलाइजिंग मशीन के विकास के लिए…
कोरोना पीड़ितों का मुफ्त इलाज

योगी कैबिनेट ने 1.5 लाख कर्मचारियों की नियत यात्रा भत्ता बढ़ाने पर लगाई मुहर

Posted by - January 7, 2020 0
लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें प्रदेश के 1.5 लाख…