मोमोज वाली मैडम

पूजा महाजन को करियर ने दिया नया नाम, बनी ‘मोमोज वाली मैडम’

283 0

दिल्ली। वर्तमान समय की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों को खाना पकाने का समय कम ही मिल पाता है। इसके अलावा खासकर युवा पीढ़ी के लिए जंकफूड, फास्टफूड को ज्यादा पसंद करने वाला फूड बन गया है। इसमें भी मोमोज आजकल खासा पसंद किया जाता है।

दिल्ली के घिटोरनी में मोमोज में भी अलग-अलग तरह की कई वैरायटी उपलब्ध

दिल्ली के घिटोरनी में मोमोज में भी अलग-अलग तरह की कई वैरायटी उपलब्ध हैं, जिनमें प्लेन मोमोज, फ्राई मोमोज, चिकन मोमोज, तंदूरी मोमोज खासा पसंद किए जा रहे हैं। बता दें कि मोमोज आजकल हमारी लाइफस्टाइल का हिस्सा बन चुके हैं। जहां चार दोस्त इकटठा हुए बोलते हैं, चल यार मोमोज खाते हैं।

सामाजिक बधाओं को तोड़ हैदराबाद की जननी राव बनीं फूड डिलीवरी वुमेन 

गप्पे मारने हो, गंभीर चर्चा करनी हो या फिर पार्टी हो। मोमोज आज सबसे साथ नजर आता है। इसी मोमोज को दिल्ली की पूजा महाजन ने करियर बना लिया। यूनिटा फूडस की डायरेक्टर और यम यम डिमसम्स नाम से उनके मोमोज देशभर में खरीदे जाते हैं। एक माह में उनकी फैक्ट्री बारह लाख मोमोज तक बना देती है।

पूजा महाजन ने पढ़ाई पूरी करने के बाद 1998 में कॉरपोरेट वर्ल्ड में काम करना शुरू किया

पूजा महाजन अपने परिवार में पहली ऐसी महिला हैं, जिन्होंने कारोबार की दुनिया में कदम रखा। इससे पहले उन्होंने पढ़ाई पूरी करने के बाद 1998 में कॉरपोरेट वर्ल्ड में काम करना शुरू किया। जॉब करते हुए न तो मेहनत की पूरी कमाई मिलती थी न अपने लिए और परिवार के लिए ही समय था। इसी बीच पूजा के दिमाग में आया कि खुद का बिजनेस शुरू करना चाहिए। इसी उधेड़बुन में पूजा समझ नहीं पाईं कि क्या करना चाहिए? 2004 में उन्होंने नौकरी को अलविदा कहा और गुड़गांव के डीएलएफ मॉल में बॉम्बे चौपाटी नाम से रेस्त्रां शुरू किया।

इसके बाद पूजा ने अपनी आय को बढ़ाने के लिए उन्होंने ट्रॉली बिजनेस में इंवेस्ट किया। यह बॉम्बे का एक ब्रांड था सिड फ्रैंकी। यह बिजनेस बहुत अच्छा चल निकला। इसको देखकर उन्होंने मोमोज की ट्रॉली शुरू की। उन्होंने देखा कि उस समय मार्केट में मोमोज की सप्लाई करने वाली ऑर्गेनाइजेशन नहीं ​थीं। जब उन्होंने इसी सेक्टर में कुछ करने की ठानी।

पूजा ने 2008 में दिल्ली के घिटोरनी में मोमोज बनाने की फ्रैक्ट्री शुरू की

पूजा ने 2008 में दिल्ली के घिटोरनी में मोमोज बनाने की फ्रैक्ट्री शुरू की। इसके लिए उन्हें सरकार की तरफ से लोन मिला और उन्होंने और ताइवान से मोमोज बनाने की मशीन इंपोर्ट की। इसके बाद कोल्ड रूम लगवाए। प्लांट में दिन के लाखों हजारों पीस बनते हैं जो ऑल इंडिया शिप होते हैं। देश के बड़े-बड़े सिनेमा हॉल, मल्टीप्लेक्सेस, होटल, बैक्विंट, केटरर्स, रेस्त्रां, कॉफी चेन में उनकी फैक्ट्री के मोमोज भेजे जाते हैं। आज उनका बिजनेस करोड़ों में पहुंच चुका है। पूजा को लोग मोमोज वाली मैडम के नाम से जानते हैं।

Loading...
loading...

Related Post

भाजपा उम्मीदवार

पीएम मोदी के सामने खुदकुशी कर लूंगा, नागरिकता बिल पास नहीं होने दूंगा –बीजेपी उम्मीदवार

Posted by - April 12, 2019 0
नई दिल्ली। पहले चरण के मतदान के दौरान बीजेपी उम्मीदवार ने खुलकर पूर्वोत्तर के लिए प्रस्तावित नागरिकता संशोधन बिल का…
शार्लीज थेरॉन

पिता की हत्या पर पहली बार बोलीं शार्लीज थेरॉन, इस वजह से मां ने मारी गोली

Posted by - December 19, 2019 0
नई दिल्ली। अपने अभिनय से लाखों दिलों की जीतने वाली हॉलीबुड की मशहूर अभिनेत्री शार्लीज थेरॉन अपने पिता की हत्या…