अफगानिस्तान: कंधार की मस्जिद में बम धमाका, 32 लोगों की मौत, 53 घायल

105 0

कंधार। अफगानिस्तान में लगातार दूसरे शुक्रवार को शिया मस्जिद को निशाना बनाया गया है। कंधार शहर में शुक्रवार को एक बड़ा हमला हुआ है। ये हमला यहां सबसे बड़ी मस्जिद पर हुआ। मस्जिद के भीतर बम धमाका होने से अब तक 32 लोगों की मौत हो गई है और 53 लोग घायल हुए हैं। ये मस्जिद बीबी फातिमा मस्जिद और इमाम बारगाह के नाम से जानी जाती है। बम धमाका शुक्रवार की नमाज के दौरान हुआ है। मामले की जानकारी स्थानीय न्यूज ने सूत्रों के हवाले से दी है।

स्थानीय मीडिया के अनुसार, प्रत्यदर्शियों का कहना है कि मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका है।. इसके अलावा किसी भी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। बम धमाके के पीछे का कारण अब तक पता नहीं चला है लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि यह एक आत्मघाती हमला है। बता दें कि तालिबान ने अफगानिस्तान के दूसरे सबसे बड़े शहर कंधार पर 13 अगस्त को कब्जा कर लिया था।

8 अक्टूबर को भी हुआ था हमला
अफगानिस्तान के कुंदुज शहर में पिछले शुक्रवार को शिया मस्जिद में नमाज के दौरान जोरदार धमाका हुआ था। इसमें 100 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि दर्जनों लोग घायल हुए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, धमाके के समय मस्जिद में करीब 300 लोग मौजूद थे। कुंदुज के उप पुलिस प्रमुख मोहम्मद ओबैदा ने बताया कि मस्जिद में मौजूद ज्यादातर लोग मारे गए थे।

आईएसआईएस-के को माना जा रहा जिम्मेदार

गौरतलब है कि इस हमले के पीछे इस्लामिक स्टेट-खुरासान यानी आईएसआईएस-के को जिम्मेदार माना जा रहा है। यह वैश्विक आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट की अफगानिस्तान स्थित ब्रांच है। जो देश के अल्पसंख्यक शिया मुस्लिमों को लगातार निशाना बना रहा है। इससे पहले बीते शुक्रवार को भी शुक्रवार की नमाज के दौरान ही उत्तरी शहर कुंदुर की एक मस्जिद में बम हमला हुआ था। जिसमें 100 से ज्यादा लोगों के मारे जाने खबर थी। इसकी जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी। यह अगस्त में अमेरिकी सेना की वापसी के बाद हुआ सबसे बड़ा हमला था।

काबुल मस्जिद में भी हुआ था धमाका

करीब दो हफ्ते पहले यानी कुंदुज और कंधार की मस्जिदों पर हमले से पहले काबुल में स्थित एक मस्जिद को भी निशाना बनाया गया था। यहां मस्जिद के गेट पर बम धमाका हुआ था। जिसमें कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई। इस हमले के पीछे भी इस्लामिक स्टेट को ही जिम्मेदार बताया जा रहा है, जो तालिबान का कट्टर दुश्मन है। जब काबुल की इस मस्जिद पर हमला हुआ, उस समय बड़ी संख्या में लोग तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद की मां की शोक सभा के लिए यहां एकत्रित हुए थे।

Related Post

रिलायंस ने रचा इतिहास

रिलायंस 11 लाख करोड़ रुपये से अधिक बाजार पूंजीकरण की पहली कंपनी बन रचा इतिहास

Posted by - June 19, 2020 0
नई दिल्ली। देश के अग्रणी औद्योगिक समूह रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने कर्जमुक्त होने के ऐलान के साथ शुक्रवार को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *